+91-8882981888

वक़्त को थोड़ा वक़्त दीजिए तभी तो, वक़्त आपको बेहतरीन नतीजे देगा |


वक़्त को थोड़ा वक़्त दीजिए तभी तो, वक़्त आपको बेहतरीन नतीजे देगा |

If you like this post, Please Share it.

वक़्त को थोड़ा वक़्त दीजिए तभी तो, वक़्त आपको बेहतरीन नतीजे देगा....

 

   "वक़्त हंसाता है, वक़्त रुलाता है।
         वक़्त ही बहुत कुछ सिखाता है।
    वक़्त की कीमत जो पहचान ले।
     वही मंजिल को पाता है"


                नमस्कार दोस्तों एक बार की बात है,
एक राजा अपने   सैनिकों के साथ जंगल में शिकार के लिए जा रहा था फिर चलते-चलते राजा को प्यास लगने लगी तो आगे चलते चलते उसे एक झील दिखा तो सोचा उसी झील का पानी पी लूं, 
   
तो राजा ने अपने एक सैनिक से कहा- की तुम जाओ और मेरे लिए पीने लायक पानी लेकर लाओ उस झील से, 
फिर वो सैनिक उसके हुकुम के मुताबिक उस झील के पास पानी लाने गया तो वहां देखा कि बहुत से लोग वहां कपड़े धो रहे थे, और गाय भैंस धो रहे थे, 

उससे झील का पानी गंदा था तो राजा के सैनिक ने सोचा कि ये पानी तो गंदा है पीने योग्य नहीं हैं ,
 सोचते हुए वापस राजा के पास आ गया फिर राजा से बोला की - मालिक उस झील में तो लोग कपड़े धो रहे है और गाय भैंस को नहला रहे है तो पानी पीने योग्य नहीं है इस कारण मै आपके लिए पानी नहीं ला सका,

फिर राजा ने अपने   सैनिकों से कहा की कोई बात नहीं थोड़ी देर यही आराम करते हैं फिर आगे सफर में जाएंगे , तो सब लोग वही रुक गए । 
      फिर थोड़ी देर इंतज़ार करने के बाद राजा ने अपने सैनिक से फिर कहा कि - जाओ अब उसी झील से पानी लेके आना, वो सैनिक मन में सोचता है कि - मैंने तो मालिक को सब बता दिया था कि झील का पानी गंदा है पीने योग्य नहीं हैं कर के तो मालिक मेरे को वापस उसी झील से पानी लेने क्यों भेज रहे है ?

 सैनिक को तो जाना ही था क्योंकि उसके राजा का हुकुम था इसलिए बिना कुछ कहे झील के पास पानी लाने जाता है फिर झील के पास पहुंचते ही देखता है कि झील का पानी तो एकदम साफ था,वहां कोई लोग नहीं थे, और ना कोई गाय भैंस है। पानी तो पीने योग्य हो गया था, फिर वह बॉटल में पानी भर कर अपने राजा के पास लाया और राजा को दिया फिर उसके पानी पीने के बाद राजा से उसने पूछा कि- मालिक पहले बार मै पानी लेने गया था तो पानी तो गंदा था पीने योग्य नहीं था लेकिन जब दूसरी बार गया तो पानी तो एकदम साफ था पीने योग्य बन चुका था

तो राजा ने उससे कहा कि उस समय झील के पानी में हलचल था इस दौरान पानी में धूल, गंदगी, कपड़े धोने गाय भैंस को नहलाने के कारण पानी गंदा था वहां अशांति का माहौल था। 
   
   तो मेरे दोस्त इस वक़्त का यही कहना है कि-
       " खो देता है जो वक़्त को ,
         वो जीवन भर पछताता है ।
          क्योंकि गुजरा हुआ वक़्त,
         कभी लौट कर नहीं आता है ।

तो मेरे दोस्त इस झील की तरह हमारी जिंदगी में भी कई बार धूल और मैले पानी की तरह गंदगी नेगेटिविटी आ जाती है परेशानी भी आती है तो हम उसे दूर करने के लिए थोड़ा सा भी वक़्त नहीं देते है और हार मान लेते हैं जो हमे आगे बढ़ने से रोकती है, इस लिए आप जब भी किसी कार्य के लिए कदम उठाते हैं तो उसे थोड़ा वक़्त दीजिए और देखिए फिर आपका लाईफ कैसा बनता है, तो मै बताना चाहूंगा की हमारी एनजीओ संस्था स्पेशल चाइल्ड वेलफेयर ऑर्गनाइजेशन  आपको बहुत हमारी संस्था के साथ जुड़कर नाम और पैसा कमाने का मौका दे रही है इसके साथ जुड़कर आप हमारी संस्था से बहुत कुछ लाभ 
 ले सकते हैं तो आप देर ना करे जल्द से जल्द हमारे साथ जुड़े नाम और पैसा दोनों कमाए।
                                 धन्यवाद
DHRITESH KUMAR LANJHI
SPONSER ID-558


.
.

Comments (22)

Gita Kumari Yadav    Sep 11 2022 11:51pm

Revision always provides new knowledge thanks sir for writing this post.

1    1    Reply    Comments (0)

Urmila chauhan    Sep 10 2022 10:52pm

Bahut achhi tarah samjhaya hai ji time ki value ke bare me thanks

1    2    Reply    Comments (0)

Sagar Prasad Ture    Sep 08 2022 07:46am

सर जी नमस्कार आपने बहोत गरिबों कि जिंदगी बदल दी है आपका ब्लाग सबसे सुंदर बात है धन्यवाद आपका सर

1    3    Reply    Comments (0)

Urmila chauhan    Aug 24 2022 11:32pm

Very very attrective motivational blog post thanks

1    1    Reply    Comments (0)

Shekhar gopi gaonkar .    Aug 24 2022 11:18pm

Blog atcha hai sir ji

2    1    Reply    Comments (0)

Shekhar gopi gaonkar .    Aug 20 2022 07:35am

Apka blog bahot atcha hai. .wo waqt ki Mahima atchese explain karta hai.

3    2    Reply    Comments (0)

SATYA DEVI    Aug 10 2022 10:18pm

Nice story

2    4    Reply    Comments (0)

Urmila chauhan    Aug 10 2022 09:52pm

Sir samjhane ka story ka madhyam and story bahut achhi lagi thanks

1    2    Reply    Comments (0)

Sagar Prasad Ture    Jul 30 2022 06:32am

सर आप महान हो SPLटिम

11    2    Reply    Comments (0)

Sagar Prasad Ture    Jul 25 2022 12:35pm

सर आपने वक़्त साथ चलने वाली बात बताई हे धन्यवाद सर

5    5    Reply    Comments (0)

Urmila chauhan    Jul 24 2022 05:09pm

samjjhane ka tarika so

4    2    Reply    Comments (0)

Rajendra Singh    Jul 10 2022 08:11pm

श्री Dhritesh कुमार Lanjhi जी ने Spl Child Welfare Organization" संस्था के Spl Cash वेबसाइट पर वक़्त पर एक अच्छा ब्लॉगर लिखा है जिसमे लिखा है "वक़्त को थोड़ा वक़्त दीजिये तभी तो वक़्त आपको बेहतरीन नतीजे dega" 2. वक़्त हँसता है वक़्त रुलाता है वक़्त ही बहुत कुछ सिखाता है वक़्त की कीमत जो पहचान ले वही मंजिल को पाता है सर बहुत बहुत धन्यवाद

16    6    Reply    Comments (0)

Urmila chauhan    Jul 10 2022 07:26pm

Time is the most power ful we should care it thanks

14    7    Reply    Comments (0)

Urmila chauhan    Jun 27 2022 09:59pm

Time is precious we should always care our time thanks ji

6    14    Reply    Comments (0)

Urmila chauhan    Jun 23 2022 02:17pm

bahut hi achhe tarike se samjhaya hai story ke madhyam se thanks

17    18    Reply    Comments (0)

Harish Kumar    Jun 14 2022 10:05pm

Kahani acchi hai aur jankari sacchi h par safalata har kisiko nahi milti h koi puri zindagi laga deta h fir b wo safal nahi ho pata ll

16    15    Reply    Comments (0)

Bohar Singh Munda    May 19 2022 03:21pm

Information thanks

27    12    Reply    Comments (0)

AKHTAR KHAN    May 12 2022 11:35pm

Sir nmskar aap bachcho ke liye achcha kam kar rahe he ,duniya me khali hath aaye he khali hath hi ja na he ,kyu na ham bhi aapke sath mil kar kuch achcha kre, sabaka bhla bhi ho jaye ham bhi do pesa kama le ,hame aapke chenl ke bare me koi jankari nahi he , aap hamari madad krege ,kahne ko to bahut kuch he,aap hamari madad krege ham aapse ummid krta hu,eske liye dhanywad

20    21    Reply    Comments (0)

Mukesh    Apr 22 2022 09:34am

Hello Sar Jila Badwani gram dumriya khotra Mein Rahane wala hun Kya Main yah kam karna chahta hun aapke sath aapki channel ke sath Hamen jodoge Mujhe Itna Samajh Mein Nahin Aata Sar main thoda Anpadh hun isliye Fir Bhi padh Leta Hun isliye likh raha hun namaste

11    12    Reply    Comments (0)

Sohan lal    Apr 02 2022 09:03am

Ok

13    22    Reply    Comments (0)

Gita Kumari Yadav    Mar 10 2022 03:03pm

Nice story

15    27    Reply    Comments (0)

Gita Kumari Yadav    Mar 10 2022 03:02pm

Story is very motivational thanks

16    24    Reply    Comments (0)


.

Leave Comments